Ghalib and His Literature: A Source of Dilli’s History

 GLOBALCULTURZ ISSN:2582-6808 Vol.II No.1 January-April 2021  

Article-ID 202101228  Pages270-275 Language:Hindi Domain of Study: Humanities & Social Sciences  Sub-DomainHistory Title: Ghalib and His Literature: A Source of Dilli’s History


Manish Karmwar Assistant Professor, SLCe College, University of Delhi (India)

[E-mailmanishkarmwar@gmail.com [[M:+91-9818014416] 

Download PDF

Note in English 

History of Delhi and Ghalib

I ASKED MY SOUL: WHAT IS DELHI?

SHE REPLIED: THE WORLD IS BODY AND DELHI ITS LIFE. 

Abstract Mirza Ghalib is Delhi’s true metaphor. He loved the city very much was a quintessential witness of a transition occurring in British Delhi. His life was greatly affected by this transition. Ghalib’s writings, reactions, letters and analysis; though they were for different motive but they shaped a true source of history of Delhi. This paper has tried to examine Ghalib’s life was a witness to the changes happening in 19th century in Delhi. He began writing letters in Urdu around 1847. He quit the old-fashioned way of writing letters that essentially meant long salutations and tortuous language and instead went for a very lively and frank style. This paper has discussed the contributions of Mirza Ghalib as Delhi’s metaphor and also review the Literature of Ghalib as a source of Delhi’s history Pre- and Post-1857. Ghalib lived in the city of Delhi, saw with his own eyes madness and mayhem descend upon the streets of his beloved city and witnessed the siege and slaughter of an entire way of life. This work also elaborates the contradictions of the society of Delhi reflected in the life and work of Ghalib..


Keywords Delhi, Mirza Ghalib, British India,1857, Urdu letters.

GHALIB AND HIS EARLY DAYS

Ghalib was born in Agra on 27 December 1797. His links with Agra were however not ancestral. His grandfather, Quqan Beg Khan, Ghalib claimed had come to India from Samarqand. Khan was a military adventurer employed at different times with the Governor of Punjab, the Mughal Abdullah Beg Khan and Nasrullah Beg Khan, followed in their father’s footsteps. It was both an uncertain and a dangerous profession. We have seen, Ghalib was hardly four when his father died. After his death, Nasrullah Beg took his brother’s family in his care, consisting of Ghalib, his younger brother and sister.

मॉरीशस के स्वतंत्रता आंदोलन में हिन्दी पत्रकारिता का अवदान

  GLOBALCULTURZ ISSN:2582-6808 Vol.II No.1 January-April 2021  

Article-ID 202101228  Pages276-279 Language:Hindi Domain of Study: Humanities & Social Sciences  Sub-DomainMedia Studies Title: मॉरीशस के स्वतंत्रता आंदोलन में हिन्दी पत्रकारिता का अवदान


पंकजेंद्र किशोर असिसटेंट प्रोफेसर, सहायक प्राध्यापक,जाकिर हुसैन दिल्ली महाविद्यालय (सांध्य), दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली (भारत)

[E-mailpankajendrakishore@gmail.com [[M:+91-7042116828] 

Download PDF

Note in English 

Media Studies

आलेख सार भारत की तरह मॉरीशस में भी हिन्दी पत्रकारिता का उदय और विकास आजादी की कामना से संभव हुआ। वहाँ पर भी पत्रकारिता के कारण सामाजिक-सांस्कृतिक जागरण संभव हो पाया। पत्रकारिता ने अंग्रेजों के कुकृत्य का पर्दाफाश करते हुए वहाँ के लोगों को जागृत करने का बड़ा काम किया। बीसवीं शताब्दी के आरंभिक दशक के पत्रकारों की इस दिशा में ऐतिहासिक भूमिका रही। इसी दौरान मॉरीशस में मगनलाल मणिलाल डॉक्टर द्वाराहिन्दुस्तानीकी शुरुआत हुई। इसके द्वारा हिन्दी पत्रकारिता का शंखनाद हुआ।.


बीजशब्द मॉरीशस, स्वतंत्रता आंदोलन, हिन्दी पत्रकारिता

 किसी के भी बंधन में रहना, किसी को भी बंधन में रखना परतंत्रता है।"[1] सोलहवीं सदी से पूर्व यूरोपीय देशों को भीपोपसे मुक्ति के लिए संघर्ष करना पड़ा था और इसी मुक्ति की कामना के परिणामतः इटली में रिनेसां आया। यह पुनर्जागरण ज्ञान-विज्ञान के कारण ही संभव हो पाया। भारत में भी इस्लाम की प्रतिक्रिया, सामाजिक-धार्मिक चेतना के उदय और औद्योगिक क्रांति के कारण नवजागरण संभव हो पाया।

‘आज तक’ की वेबसाइट पर प्रकाशित धर्म, अध्यात्म और संस्कृति से जुड़ी खबरें: एक आलोचनात्मक अध्ययन

 GLOBALCULTURZ ISSN:2582-6808 Vol.II No.1 January-April 2021  

Article-ID 202101026/II  Pages265-269 Language:Hindi Domain of Study: Humanities & Social Sciences  Sub-Domain: Media Studies Title:आज तक’ की वेबसाइट पर प्रकाशित धर्म, अध्यात्म और संस्कृति से जुड़ी खबरें: एक आलोचनात्मक अध्ययन

Download PDF

आदर्श कुमार असिसटेंट प्रोफेसर, स्कूल ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्यूनिकेशन, नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, गौतम बुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश

 (भारत) एवं शोधार्थी, मनिपाल विश्वविद्यालय, जयपुर, राजस्थान (भारत) 

[E-mailadarshanchor@gmail.com[[M:+91-9871440511] 


Note in English 

Media Studies

About the Author

सम्प्रति- Assitant Professor,

School of Journalism & Mass Communication

 Noida International University

Research Scholar

Manipal University Jaipur, Jaipur

( International Poet, Author & Journalist)

Gold Medalist, Delhi University Topper, State Topper

( 15 years working experience in No. 1 News Channel 

ABP News, STAR News, Aaj Tak, AIl India Radio, Jansatta & Academics)

Author of popular book Akshar Akshar Adarsh

____________________________________________________________________________________________________________________________  

शोध भूमिका- पल-पल बदलती दुनिया में ज्यादातर आबादी सूचना हासिल करने के लिए ऑनलाइन मीडिया का इस्तेमाल करती है। खासकर युवा वर्ग के हाथों में अब स्मार्टफोन और 4जी का अनलिमिटेड डेटा है, ऐसे में ऑनलाइन मीडिया सूचना का सबसे बड़ा स्त्रोत बनकर उभरा है। गौरतलब है कि लोग जब ऑनलाइन मीडिया पर खबरें तलाशते हैं तो वो चैनलों की वेबसाइट का रुख करते हैं खासकर बड़े न्यूज चैनल के वेबसाइट्स पर वो ज्यादा समय बिताते हैं। ऐसे में हमने एक प्रमुख और ज्यादातर समय नंबर वन की पायदान पर रहने वाले न्यूज चैनलआज तककी वेबसाइट का अध्ययन किया। हमने जानने की कोशिश की कि आज तक की वेबसाइट पर धर्म और संस्कृति से जुड़ी खबरों और कंटेंट का स्तर क्या है ? इस वेबसाइट पर किस तरह के कंटेंट हैं और इसका लोगों पर किस हद तक प्रभाव है ? हमने समझने की कोशिश की कि क्या वाजिब मात्रा में इस वेबसाइट पर धर्म और संस्कृति की खबरें दी जा रही है ?

Editorial-III


 Dear Readers, 

 
 

The third issue of Globalculturz is bundled now. With this issue the Journal completes its first year of publication and will be compiled as volume one.  

 
 

The Editorial Board of the Journal expresses its sincere thanks to the reviewers and contributors for their continuous support, The Board expresses its gratitude towards National Science Library (India) and Advance Science Index (ASI), European Science Evaluation Center (Germany) for their encouragement and recognition. 

 
 

This year was a hard time for humans all over the globe due to COVID-19 pandemic. It was difficult for the editorial team to switch-over between off-line and online modes to get work done in the lockdown situations. However, the team made its best efforts to prepare the manuscripts, receiving the reviews and communicating the same to the editorial board. The technical team did a commendable work by uploading the contents as soon as they could do. 

 
 

In this issue, varied topics were covered. Researcher presented their work on Cinema Studies, Literary Studies, Media Studies and other domains of knowledge. Creative work, particularly short-stories, are also part of it. A continuous endeavor is done to improve layout, design and presentation of contents. The team is constantly working on all these aspects. 

 
 

The first volume was published in a time of distress. Things didn't go as thought. The editorial team too was not able to meet physically which was necessary to take concrete decisions and to hire the experts for designing, proofing etc. There may be some short-comings in this volume. Your suggestions and advices are valuable to us. Continue to communicate with us, we need your positive appraisal and criticisms as well for self-introspection and improvement.  

 

Your feedback is valuable to us. do mail us at info@globalculturz.org
 

Date: 15 Jan, 2021

-Team

Globalculturz

 

राष्ट्रीय राजनीतिक विमर्श में सोशल मीडिया का योगदान

 GLOBALCULTURZ ISSN:2582-6808 Vol.I No.3 September-December2020 

Article-ID 2020120025/I  Pages258-264 Language:Hindi Domain of Study: Humanities & Social Sciences  Sub-Domain: Media Studies Title: राष्ट्रीय राजनीतिक विमर्श में सोशल मीडिया का योगदान

Download PDF


आदर्श कुमार असिस्टेंट प्रोफेसर, स्कूल ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्यूनिकेशन, नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, गौतम बुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश

 (भारत)  एवं शोधार्थी, मनिपाल विश्वविद्यालय, जयपुर, राजस्थान (भारत)

[E-mailadarshanchor@gmail.com][M:+91-9871440511]  


Note in English    Media Studies


About the Author

सम्प्रति- Assitant Professor,

School of Journalism & Mass Communication

 Noida International University

Research Scholar

Manipal University Jaipur, Jaipur

( International Poet, Author & Journalist)

Gold Medalist, Delhi University Topper, State Topper

( 15 years working experience in No. 1 News Channel 

ABP News, STAR News, Aaj Tak, AIl India Radio, Jansatta & Academics)

Author of popular book Akshar Akshar Adarsh

____________________________________________________________________________________________________________________________  

शोध सारांश

गंभीर राजनीतिक विमर्श के मामले में सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में से ट्विटर सबसे प्रभावशाली माध्यम माना जाता है क्योंकि तमाम राजनीतिक दलों के सिरमौर नेता अक्सर किसी भी सूचना या विचार को सबसे पहले ट्विटर पर ही शेयर करते हैं। नेताओं के ट्वीट करते ही उनके समर्थक उनके ट्वीट को रिट्वीट करना शुरू कर देते हैं। अगर नेता प्रभावशाली है और उसके ट्वीट में किसी चटपटी खबर का तत्व शामिल है तो सभी न्यूज चैनल अपने टीवी स्क्रीन पर ट्विटर के टेम्पलेट वाले ग्राफिक्स के जरिए उनके ट्वीट को बार-बार दिखाते हैं।

संत वाणी और युगीन प्रासंगिकता (हिन्दी संत काव्य के सन्दर्भ में)

GLOBALCULTURZ ISSN:2582-6808 Vol.I No.3 September-December2020 

Article-ID 2020120024/I  Pages253-257 Language:Hindi Domain of Study: Humanities & Social Sciences  Sub-Domain: Literature-Criticism Title: संत वाणी और युगीन प्रासंगिकता (हिन्दी संत काव्य के सन्दर्भ

Download PDF


 संजय कुमार लक्की (डॉ.)  एसोसिएट प्रोफेसर हिन्दी, राजकीय महाविद्यालय शाहाबाद जिला बारां, राजस्थान (भारत)

[E-mail: sanjaykumarlucky@yahoo.com[[M:+91-9462554518]                                                                                                   

Note in English  Hindi Criticism


About the Author

सम्प्रति- एसोसिएट प्रोफेसरहिन्दी’, राजकीय महाविद्यालय शाहाबाद जिला बारां, राजस्थान

____________________________________________________________________________________________________________________________  

‘‘जाति पाँति पूछे नहीं, हरि को भजे सो हरि को होई’’ एवंघट घट व्यापक राम, ब्रह्म बीज का सकल पसारा हिन्द-तुरक का कर्त्ता एक, पीर सबन की एक सी, की गंगा-जमुनी परंपरा एवं धर्म के नाम पर मानव-धर्म एवं लोक धर्म की प्रतिष्ठा करने का पहला प्रयास हिन्दी साहित्य में, भक्ति काल के अन्तर्गतसंत साहित्य’, ज्ञानाश्रयी मार्गी भक्त कवियों संतों द्वारा हुआ। अस्वीकार का दुस्साहस रखने वाले अक्खड़, फक्कड़, घुमक्कड़ इन संतों नेमसि कागद छुयो नहीं, कलम गहि नहीं हाथसेढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होयकी दीर्घ अध्यात्म यात्रा तय की एवं स्वानुभूत सत्य, मर्म को जनभाषा, सधुक्कड़ी भाषा में, देशज परंपरा से सिक्त कर जनभाषिक प्रतीकों, मिथकों, रूपक योजना से सहज वाणी से परंपरा प्राप्त वेद, उपनिषद, जैन, बौद्ध, महायान, कापालिक-तांत्रिक साधना आदि से प्राप्त सत्य, अनुभव को लोकानुभव लोकानुभूति को सर्वग्राह्य, सर्वसुलभ बनाया। वस्तुतः ‘‘संत द्वारा, भक्ति साहित्य इस देश का सर्वाधिक प्रबल, विराट सांस्कृतिक आंदोलन1 बना जिसकी जड़ें गाँव गाँव, देश देश, देश प्रदेश में फैली” [1]